Rani Sati Mandir Jhunjhunu रानी सती मंदिर

Rani Sati Temple रानी सती मंदिर (रानी सती दीदी मंदिर) भारत के राजस्थान राज्य के झुंझुनू जिले के झुंझुनू में स्थित एक मंदिर है। यह भारत का सबसे बड़ा मंदिर है, जो एक राजस्थानी महिला रानी सती को समर्पित है, जो 13 वीं और 17 वीं शताब्दी के बीच में रहती थी और अपने पति की मृत्यु पर सती (आत्मदाह) करती थी। राजस्थान और अन्य जगहों पर विभिन्न मंदिर उनकी पूजा और उनके कार्य को मनाने के लिए समर्पित हैं। रानी सती को नारायणी देवी भी कहा जाता है और उन्हें दादीजी (दादी) कहा जाता है।

सफ़ेद संगमरमर से बने इस मंदिर में दीवारों पर रंगीन चित्रकारी और भित्तिचित्र हैं। यहां रानी सतीजी का एक चित्र है, जो बहुत सुंदर है और स्त्री के कौशल और उसकी ताकत का प्रतीक है। रानी सती मंदिर जिस परिसर में है, वहां पर और भी कई मंदिर हैं, जो भगवान शिव, भगवान गणेश, माता सीता और श्रीराम के परम भक्त हनुमान के हैं।

400 साल पुराना है मंदिर– रानी सती जी को समर्पित झुंझुनू का यह मंदिर 400 साल पुराना है। यह मंदिर सम्मान, ममता और स्त्री शक्ति का प्रतीक है। देश भर से भक्त रानी सती मंदिर में दर्शन के लिए आते हैं। भक्त यहां विशेष प्रार्थना करने के साथ ही भाद्रपद माह की अमावस्या पर आयोजित होने वाले धार्मिक अनुष्ठान में भी हिस्सा लेते हैं। रानी सती मंदिर के परिसर में कई और मंदिर हैं, जो शिवजी, गणेशजी, माता सीता और रामजी के परम भक्त हनुमान को समर्पित हैं। मंदिर परिसर में षोडश माता का सुंदर मंदिर है, जिसमें 16 देवियों की मूर्तियां लगी हैं। परिसर में सुंदर लक्ष्मीनारायण मंदिर भी बना है। राजस्थान के मारवाड़ी लोगों का दृढ़ विश्वास है कि रानी सतीजी, स्त्री शक्ति की प्रतीक और मां दुर्गा का अवतार थीं। उन्होंने अपने पति के हत्यारे को मार कर बदला लिया और फिर अपनी सती होने की इच्छा पूरी की। रानी सती मंदिर भारत के सबसे अमीर मंदिरों में से एक है। वैसे अब मंदिर का प्रबंधन सती प्रथा का विरोध करता है। मंदिर के गर्भगृह के बाहर बड़े अक्षरों में लिखा है. हम सती प्रथा का विरोध करते हैं।

रानी सती मंदिर झुंझुनू समय

रानी सती मंदिर झुंझुनू प्रतिदिन सुबह 5.00 बजे से दोपहर 1.00 बजे तक और दोपहर 3.00 बजे से रात 10.00 बजे तक खुलता है। भक्त इस दौरान कभी-कभी दादी या रानी सती के दर्शन के लिए यहां आ सकते हैं।

ऐसे पहुंचें रानी सती मंदिर

झुंझुनू बस स्टैंड से रानी सती मंदिर करीब तीन किलोमीटर की दूरी पर है, यहां से ऑटो रिक्शा लेकर आप मंदिर तक पहुंच सकते हैं। झुंझुनू रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी करीब 4.5 किलोमीटर है। वहीं शहर के गांधी चौक से मंदिर की दूरी महज 1 किलोमीटर है।

13 सती मंदिर

इस मंदिर परिसर में 13 सती मंदिर हैं, जिनमें 12 छोटे और एक बड़ा मंदिर है, जो रानी सती का है। 1762 तक उनके परिवार में 12 और सती हो गईं। इन 12 सतीयों की छोटी-छोटी सुंदर कलात्मक झालरें सफेद संगमरमर की एक पंक्ति में बनाई गई हैं। जिसकी मान्यता और पूजा बराबर हो रही है. झुंझुनू में कुल मिलाकर 12 सतियाँ हुईं।•माँ नारायणी•जीवन सती•पूर्ण सती•पिरागी सती•जमना सती•तिल्ली सती•बानी सती•मैनावती सती•मनोहारी सती•महदेई सती•उर्मिला सती•गुजरी सती•सीता सतीरानी सती मेला एक महत्वपूर्ण मंदिर मेला उत्सव है जो साल में दो बार माघ कृष्ण नवमी और भाद्रपद अमावस्या को मनाया जाता है।

पर्यटक स्थल रानी सती दादी मंदिर

अगर आप मंदिर दर्शन के साथ-साथ झुंझुनू में किसी बेहतरीन जगह घूमने का भी प्लान बना रहे हैं, तो यहां मौजूद एक से एक बेहतरीन जगहें घूमने के लिए जा सकते हैं।

•खेतड़ी महल-झुंझुनू

•पंचदेव मंदिर – बाबा गंगाराम धाम

•दरगाह हज़रत क़मरुद्दीन शाह

•बादलगढ़ किला

•पोदार हवेली संग्रहालय

•बिरला विज्ञान केंद्र पिलानी

•सराफ हवेली

•कुआ धाम बगड़

•बावलिया बाबा मंदिर

•पंचवटी

•मुकुंदगढ़ किला

•कमल मोरारका हवेली संग्रहालय

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top