RPSC Paper Leak: वरिष्ट अध्यापक परीक्षा निरस्त, परीक्षा की नई तिथि घोषित

जयपुर: RPSC से बड़ी खबर

राजस्थान में भर्ती परीक्षा का पेपर लीक होने का सिलसिला जारी है. परीक्षा से पहले एक और भर्ती परीक्षा का पेपर लीक हो गया है. राजस्थान सरकार ने पेपर लीक होने के बाद भर्ती परीक्षा शुरू होने से पहले ही रद्द कर दिया है. परीक्षा शुरू होने से ठीक पहले परीक्षा रद्द किए जाने की वजह से इसमें शामिल होने के लिए पहुंचे अभ्यर्थी हलकान हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

जानकारी के मुताबिक आज यानी 24 दिसंबर को राजस्थान में सेकंड ग्रेड अध्यापकों की भर्ती के लिए परीक्षा होनी थी. परीक्षा शुरू होने से पहले ही इसका पेपर बाहर घूमने लगा, सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हो गया. बात अधिकारियों तक पहुंच गई. मामले को गंभीरता से लेते हुए सरकार ने आनन-फानन में शुरू होने से ठीक पहले परीक्षा को रद्द करने का ऐलान कर दिया.

वरिष्ठ अध्यापक (माध्यमिक शिक्षा विभाग ) परीक्षा 2022, ग्रुप-ए तथा ग्रुप-बी की सामान्य ज्ञान परीक्षा निरस्त, 30 जुलाई को पुन: किया जाएगा इन परीक्षाओं का आयोजन, संयुक्त सचिव आशुतोष गुप्ता ने दी जानकारी।

अभ्यर्थियों को ये बताया गया कि परीक्षा का पर्चा बाजार में आ चुका है. पेपर लीक हो जाने की वजह से परीक्षा रद्द कर दी गई है. ये परीक्षा अब आज नहीं होगी. कहा जा रहा है कि शाम की पाली में होने वाली परीक्षा के सामान्य ज्ञान और विज्ञान के पेपर भी लीक हो गए हैं..

बस में मिले परीक्षा के पेपर

जानकारी के मुताबिक उदयपुर के बेकरिया थाना क्षेत्र में एक बस पकड़ी गई. इस बस में राजस्थान सेकंड ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा के करीब 40 से 45 अभ्यर्थी सवार थे. बताया जाता है कि उदयपुर के बेकरिया थाना क्षेत्र में पकड़ी गई इस बस में सवार कुछ अभ्यर्थियों के पास से इस भर्ती परीक्षा का पेपर मिला. अभ्यर्थियों के पास से मिले पेपर का भर्ती परीक्षा के पर्चे से मिलान कराया गया तो ये मैच कर गया.

पुलिस और SOG ने शुरू की जांच

राजस्थान सेकंड ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा का पेपर लीक होने के मामले की जांच शुरू हो गई है. राजस्थान पुलिस के साथ ही स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप यानी SOG ने मामले की जांच शुरू कर दी है. पुलिस और एसओजी की कई टीमें मामले की जांच में जुट गई हैं.

राजस्थान लोक सेवा आयोग, अजमेर की ओर से जारी प्रेस नोट में कहा गया है कि वरिष्ठ अध्यापक (माध्यमिक शिक्षा) परीक्षा 2022 के अंतरगत सामान्य ज्ञान ग्रुप ए की परीक्षा 21 दिसंबर 2022 को जबकि ग्रुप बी की परीक्षा 22 दिसंबर 2022 को आयोजित की गई थी। उक्त परीक्षाओं के संबंध में प्रकरण संख्या 227 / 2022 के अंतरगत एसओजी से रिपोर्ट प्राप्त हुई। इस रिपोर्ट पर आयोग में विचार विमर्श हुआ

आखिर में दोनों ही परीक्षाओं को निरस्त करने का फैसला लिया गया।

आयोग (RPSC) की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि 21 दिसंबर 2022 को आयोजित सामान्य ज्ञान ग्रुप-ए और 22 दिसंबर 2022 को आयोजित सामान्य ज्ञान ग्रुप-बी की निरस्त परिक्षाएं अब 30 जुलाई को होंगी। अब 30 जुलाई को सुबह ग्रुप-ए जबकि शाम को ग्रुप-बी का पेपर होगा।

Rajasthan News विभिन्न जिलों के 441 गांवों में खुलेंगे नवीन उप स्वास्थ्य केंद्र

प्रत्येक उप स्वास्थ्य केंद्र हेतु महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता का एक-एक पद होगा सृजित

जयपुर, 18 जून। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में चिकित्सा सुविधाओं के विस्तार तथा आमजन को बेहतर इलाज उपलब्ध कराने की दिशा में निरन्तर महत्वपूर्ण फैसलें लिए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश के विभिन्न जिलों के 441 गांवों में नवीन उप स्वास्थ्य केंद्र खोलने तथा प्रत्येक स्वास्थ्य केंद्र हेतु महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता का एक-एक पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की है।

प्रस्ताव के अनुसार, बाड़मेर के 39, दौसा के 33, जयपुर-प्रथम के 25, सीकर के 25, अलवर के 23, जैसलमेर के 22, नागौर के 20, झुन्झूनूं के 20, भरतपुर के 19, अजमेर के 17, डूंगरपुर के 15, हनुमानगढ़ के 15, करौली के 14, चूरू के 14, जयपुर-द्वितीय के 14, बारां के 14, भीलवाड़ा के 12, जोधपुर के 12, टोंक के 12, राजसमंद के 10, कोटा के 9, बीकानेर के 9, धौलपुर के 6, बूंदी के 6, उदयपुर के 6, बांसवाड़ा के 5, चितौड़गढ़ के 5, सवाई माधोपुर के 5, गंगानगर के 5, सिरोही के 4, जालोर के 4 एवं पाली के 2 सहित कुल 441 गांवों में नवीन उप स्वास्थ्य केंद्र खोले जाएंगे। उप स्वास्थ्य केंद्रों का संचालन भवन निर्माण होने तक उपलब्ध राजकीय भवन अथवा किराये के भवन में किया जाएगा। साथ ही, प्रत्येक उप स्वास्थ्य केंद्र हेतु महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता का 1-1 पद (कुल 441 पद) सृजित किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बजट 2023-24 में प्रदेश में नवीन उप स्वास्थ्य केंद्र खोलने की घोषणा की गई थी। उक्त घोषणा की क्रियान्विति के क्रम में यह स्वीकृति दी गई है। गहलोत की इस मंजूरी से प्रदेश की गांव-ढाणी में चिकित्सा सेवाओं का विस्तार होगा तथा स्थानीय लोगों को क्षेत्र में ही बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध हो सकेगी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*